Review of my new book by internationalist editor & writer Indy Badhwar.

http://www.indialegallive.com/letter-from-the-editor/a-book-namo-should-read-22852

Posted in Uncategorized | Leave a comment

Available on Amazon!

Image | Posted on by | Leave a comment

Coming Next week….

Image | Posted on by | 1 Comment

 “ग्रेस, सेंट पॅट्रिक चर्च, इमॅजिन आणि न्यूयॉर्क”

vedacha-bharat

मराठीतील महाकवी ग्रेस यांची माझी ओळख आमच्या एका कॉमन मित्राने ग्रेस यांच्या एका मैत्रिणीच्या चित्र स्टुडिओमध्ये करून दिली. त्या चित्रकर्तीच्या अनेक सुंदर पेंटिग्जमध्ये बोलत बसलेले ग्रेस हे मला शॉपेनच्या संगीतासारखे वाटत असत.अर्थात, मी हे त्यांना कधीच सांगितलं नाही. मुळात मी ग्रेस यांची एक मोठी मुलाखत घ्यावी,अशी माझी इच्छा होती. ग्रेस यांनी माझ्या पहिल्या भेटीनंतर मला सातत्याने फोनवर बोलून,मेसेज पाठवून आमची ओळख एका स्नेहबंध मैत्रीमध्ये रुपांतरित केली. सुरुवातीला मी फार संकोची होतो आणि लाजायचोही. कारण, ग्रेस हे फार मनस्वी असल्यामुळे कसेही आणि काहीही बोलू शकतात,असं मी अनेकांकडून ऐकले होते. त्यानंतर ते हयात असताना माझ्या त्यांच्या तीन चार प्रदीर्घ भेटी झाल्या. फोनवर बोलणे तर अनेकदा झाले. माझ्या बाजूने फोन किंवा मेसेज झाला नाही,तरीसुद्धा साधारणत: दिवसाआड एक किंवा दोनदा ‘रेव्हरंड परुळेकर’ असं मला संबोधून ते मला मेसेज पाठवत. ते सगळे एसएमएस होते. त्या काळात सोशल मीडिया किंवा व्हॉट्स अॅप प्रचलित नव्हतं आणि असतं तरी ग्रेस त्यावर आले असते असं मला वाटत नाही. त्यातील काही एसएमएस आजही माझ्याकडे आहेत, तर काही काळाच्या पडद्याआड गेले. केवळ त्यासाठी नोकियाचा तो जुना फोन अजूनही मी जपून ठेवला आहे.ग्रेस यांची मुलाखत मी अनेकदा तारीख वेळ ठरवूनही घेऊ शकलो नाही, याची अनेक दुर्देवी कारणे आहेत. पण त्यांना मला मुलाखत द्यायची होती आणि मला त्यांची मुलाखत घ्यायची होती, याबाबत आमच्या दोघांचंही दुमत नव्हतं. महाकवी ग्रेस कित्येकदा बोलताना पूर्णविराम घ्यायचे नाहीत.मुलाखतीत ब्रेक घेतला जो अपरिहार्य होता, तर ते भडकतील अशी मला उगाचच भिती होती. वास्तविक ते माझ्यावर कधी भडकलेच नाहीत किंवा त्यांच्याबद्दल ते विक्षिप्त असल्याच्या कंड्या पसरवण्यात आलेल्या आहेत, त्यातल्या एकाचाही मला कधी अनुभव आलेला नाही. मी प्रत्येक शेड्यूल ठरवल्यावर ग्रेस यांची मनातल्या मनात मुलाखत घ्यायचो, पण ती ऐनवेळेला रद्द व्हायची. ते मी त्यांना सांगायचो नाही कारण,फार संकोच वाटायचा आणि वाईटही वाटायचे. ते मला ‘रेव्हरंड’ असं का संबोधतात,असं मला अनेकदा त्यांना विचारायचं होतं, पण तेही राहून गेलं. ख्रिस्ताच्या आयुष्य आणि बलिदानाविषयी त्यांना अमूर्त असं आकर्षण होतं. ते त्यांच्या लेखनात बीटविन द लाइन्स दिसतं.

grace

ग्रेस यांची ओळख होण्याच्या काही वर्षं आधी मी नागपूरमध्येच फेलोशिपच्या कामानिमित्त राहत होतो. मी ज्या घरात राहत होतो, त्या घरातून समोरच्या एका घराची खिडकी थेट दिसत असे. ग्रेस नागपूरचे.त्या समोरच्या घरात त्यांच्या कॉलेजमधल्या सहअध्यापिका राहत असत. कधी कधी ग्रेस तिथे कॉफी प्यायला यायचे, थेट त्यांचं दर्शन व्हायचं. अर्थात,त्यांच्या प्रत्यक्ष भेटीएवढं थेट जवळून नाही, पण ते आले की त्यांच्याकडे पाहताना चंद्रमाधवीचा प्रदेश उगवला असं वाटायचं. नंतर त्यांची ओळख झाल्यावर ते माझ्याशी इतके मोकळे होत गेले की, त्यांच्या आयुष्यातल्या उलथापालथी,कलावंत म्हणून जगताना होणारे मूड स्विंग्ज, त्यांचा मुलगा राघवचं आयुष्य याबद्दल ते मोकळेपणाने बोलायचे, मेसेज करायचे. संबोधन मात्र ‘रेव्हरंड परुळेकर’ असंच करायचे. ग्रेस यांची मुलाखत घेण्याचा मी आटोकाट प्रयत्न केला आणि मुलाखत देण्याचा आटोकाट प्रयत्न त्यांनीही केला. पण तांत्रिक कारणांमुळे आणि काही व्यक्तींमुळे ते जमून आलं नाही,नाहीतर ती एक अजरामर मुलाखत ठरली असती. ग्रेस गेले तेव्हा मी या गोष्टीसाठी मनातल्या मनात मातम केलं. ग्रेस यांचं’रेव्हरंड परुळेकर’ मनात कायम ठसठसत राहिलं. ते गेल्यानंतर मला कुणीही या संबोधनाने हाक मारली नाही किंवा मेसेजही केला नाही. ते स्वाभाविकच होतं,कारण ग्रेस ग्रेस होते. ग्रेस इंग्रजी मेसेज इंग्रजांहून सुंदर लिहायचे.त्यांचा मुलगा राघव याच्याशीही मी फोनवर बोलायचो. ग्रेस यांच्या साहित्याचा दिवाना असणं, ही काही आश्चर्यकारक गोष्ट नाही, पण ते माणूस म्हणून फार महान होते. मात्र कलावंताला ज्या मूड स्विंग्जमधून जावंच लागतं,त्याचा दोष मूर्ख लोकांनी कवी ग्रेस यांना लावला, हे खास कलाकाराविषयी आपल्या समाजाचं अज्ञान आहे!

एक-दीड वर्षापूर्वी मी न्यूयॉर्कला गेलो. न्यूयॉर्कमध्ये देखणं वास्तुशिल्प म्हणून उभ्या असलेल्या सेंट पॅट्रिक चर्चमध्ये सौंदर्य आणि कलासक्तता यांची आशिकी म्हणून मी मुद्दाम गेलो.आतमध्ये अनेक लोक प्रार्थना करत होते, काही पाद्री घोळदार झगा घालून प्रेअरबाबत लोकांना मार्गदर्शन करत होते. या भव्य आणि कलावैभवाने नटलेल्या वास्तुत प्रचंड शांतता नांदत होती. जे काही बोलणं होतं, ते खुसपुसल्यासारखं. बाकी टाचणी पडली तरी आवाज येईल, एवढी शांतता. शिल्प आणि कलाकुसर केलेल्या काचेचा प्रत्येक भाग कलावैभवाने नटलेला होता.जीसस ख्राईस्ट आणि सेंट पॅट्रिक यांच्या जीवनातले प्रसंग चितारले होते, त्या देखण्या काचा आणि भव्य वास्तु पाहताना डोळे अक्षरश: गारद होत होते. याहून मोठ्या आणि वैभवशाली कलाकृती मी जगभर पाहिलेल्या आहेत, पण प्रत्येकाचं महत्त्व वेगळं.

saintpatrick nyc.jpg

या वास्तुत मी उभा असताना मला अचानक ग्रेस यांची आठवण झाली. ‘रेव्हरंड परुळेकर’ या त्यांच्या संबोधनाचीसुद्धा. तिथे माझ्यासारखे अनेक लोक उभे होते. जगातल्या बहुतेक सर्व वंशाचे. माझ्या मनात अचानक तिथेच प्रश्न उभा राहिला की, ग्रेस मला ‘रेव्हरंड परुळेकर’ का म्हणत असावे बरं? त्याच वेळी अचानक एक पांढरे कपडे घातलेला बिशप माझ्याकडे चालत आला, त्याने स्मितहास्य केलं आणि जिसस ख्राईस्टचं चित्र असलेला चांदीचा क्रॉस त्याच्या चेनसकट माझ्या हातात दिला. इतर कुणाशीही त्याने तसं काही केलं नाही. खांद्यावर दोनदा थोपटून आणि माय बॉय म्हणून तो तिथून निघून गेला.चेनसकट तो क्रॉस मी खिशात ठेवला. सेंट पॅट्रिक चर्च पाहून झाल्यावर मी तिथून बाहेर पडलो आणि बस पकडून थेट बीटल्सच्या जॉन लेननला जिथे गोळी घालून मारण्यात आलं त्याच्या जवळच असलेल्या,त्याच्या पत्नीने बनवलेल्या स्ट्रॉबेरी गार्डन आणि तिथे जवळच असलेल्या इमॅजिन स्क्वेअरमध्ये मी गेलो. स्ट्रॉबेरी गार्डनमध्ये फिरलो आणि इमॅजिन स्क्वेअरमध्ये एक लोकल बँड गाणं वाजवत होते,तिथे रस्त्यावर फतकल मारून बसलो.

imagine-square

john-lennon

जॉन लेनन हा माझा अत्यंत आवडता गायक आणि इमॅजिन हे माझं अत्यंत आवडत्या गाण्यांपैकी एक. त्या गाण्यामधील ‘You may say I am a dreamer But I am not the only one’ ही ओळ तर माझी प्राणप्रिय. ती आठवत मी बसलो होतो. समोर जो बँड गाणं गात होता, तो जिप्सी बँड होता. तिथे मला ग्रेस आणि जॉन लेनन या दोघांचीही आठवण आली आणि ग्रेस यांच्या न झालेल्या मुलाखतीसाठी मी तिथे मनसोक्त रडलो. खिशातला क्रॉस काढला आणि सरळ गळ्यात घातला. ग्रेस यांची एक कविता आहे..

‘अशा लाघवी क्षणांना

माझ्या अहंतेचे टोक

शब्द फुटण्याच्या आधी

ऊर दुभंगते हाक’

इमॅजिन स्क्वेअरमधल्या तिन्हीसांजेच्या वेळी जिप्सी बँडने वाजवलेल्या गिटारच्या तारांनी त्या मंद होत जाणाऱ्या प्रकाशात मला ग्रेस यांची हीच कविता का आठवावी? त्या कवितेचं नाव मी इथे लिहिणार नाही. नावातच अर्थ सामावलेला आहे.

तो सेंट पॅट्रिक चर्चमध्ये भेट मिळालेला येशूचा क्रॉस आजही माझ्या गळ्यात आहे. जॉन लेनन,महाकवी ग्रेस यांच्याशी मी आजही एकटाच बोलत राहतो.पण इमॅजिन स्क्वेअरमध्ये घेतलेल्या मनसोक्त रडण्याचा आनंद मला परत मिळाला नाही.जॉन लेननला मी कधीही भेटलो नाही. ते अर्थातच शक्य नव्हतं!ग्रेस यांना मी खूपदा भेटलो. न भेटता फोनवर तर अपार बोललो. यातल्या कशानेही त्यांच्या माझ्या संबंधात असलेल्या एका धाग्याचा फरक पडत नाही. शेवटी सर्वच स्वत:चा क्रॉस स्वत: वाहतात. त्या यातनांच्या प्रवाहात जी निर्मिती होते, त्याचा आनंद निर्माता सोडून इतर सर्वांना मिळावा,अशी एक वैश्विक विराट योजना आहे.

माझेही मूड स्विंग्ज भयानक प्रकारचे होतात. अशा वेळी मी कसा वागतो, हे मला माहीत नाही. मग लोक कंड्या पिकवतात. त्या कंड्यांवर विश्वास ठेवून माणसं मला टाळू लागतात. अशा माणसांनी टाळण्याचाच आनंद अपार असतो, हे आता ‘रेव्हरंड परुळेकरांना’ कळले आहे!महाकवी ग्रेस बोलताना बऱ्याचदा पूर्णविराम का घेत नसत, त्याचं अचूक कारण मला कळलेलं आहे. त्यांना थांबवणं हे विरामांचं काम नव्हे, हे ते सांगत असत बहुदा.

आजही गळ्यातल्या क्रॉसकडे जेव्हा जेव्हा माझा हात जातो,तेव्हा मी असं काहीतरी लिहितो,वेड्यासारखं…

राजू परुळेकर

+91 9820124419
rajuparulekar1@gmail.com
http://www.rajuparulekar.us

Posted in Uncategorized | 1 Comment

कोल्हापुर!

​https://www.youtube.com/watch?v=z-lFtHRdDV8
My speech at KOLHAPUR INSTITUTE OF TECHNOLOGY
कोल्हापुरचे माझे भाषण…नक्की पहा, एका….👍 अजुन 
एक प्रॉमिस पूर्ण!☺️

Posted in Uncategorized | 1 Comment

​क्रांतिचा नायक मेला आहे!

​क्रांतिचा नायक मेला आहे!
आंतरराष्ट्रीय परिस्थितीमध्ये घडलेल्या वेगवेगळ्या घटना, भारतात घडणार्‍या जाती आणि धर्मातल्या घटना, जगभरात निघालेले मोर्चे आणि आता महाराष्ट्रात निघत असलेले मोर्चे या सगळ्यांचं खळबळजनक विश्‍लेषण आणि याचा तार्किक अंत यावर भाष्य करणारा सुप्रसिद्ध पत्रकार राजू परूळेकर यांचा ‘साहित्य चपराक दिवाळी अंकातील हा विशेष लेख वाचण्यासाठी येथे क्लिक करा – http://saptahikchaprak.blogspot.in/2017/01/blog-post_8.html

Posted in Uncategorized | 1 Comment

।। रविश कुमार, अर्नब, राजकमल झा और अन्य नौटंकी ।।

राजू परुळेकर

ravish

एनडीटीव्ही इंडिया‘ के संपादक और पत्रकार रविश कुमारजिनका पूरा नाम भी मैं जानता हूँपर वे नही चाहते कीउनका पूरा नाम लोगों के सामने आए

किसी के जीवनमें दखलअंदाजी करना मुझे पसंद नही हैंजब तक वह व्यक्ती सार्वजनिक जीवन में अपनी कोई निजी चीज का सार्वजनिक जीवन में इस्तेमाल ना करे.
खैरवो बात नही हैरविश कुमार अपने नाटकीय अंदाज मेंएनडीटीव्ही‘ के संसाधनों का इस्तेमाल करके लोगों के सामने अलग अलग नाटक पेश करने के लिए मशहूर हैं

असल में मुझे रविश की एक बात अच्छी लगती हैं कीवे दिल्ली के लुटियन सर्कल‘ (https://en.wikipedia.org/wiki/Lutyens%27_Delhiके अविभिन्न अंग हैपर ना ही वेसेंट स्टिफन्स‘ के छात्र हैं और ना ही वे जेएनयूमें पढे हैना ही उन्होने किसी विदेशी युनिव्हर्सिटी या आयव्ही लीगसे  डीग्री हासिल की हैं

लेकिन फिर भी उन्होंनेदिल्ली के लुटियन सर्कल‘ में जगह बनायी हैयह अपने आप में एक उपलब्धी‘ हैंइससे आपको चारपाच पुरस्कार तो मिल ही जाते हैउपर से आपको निष्पक्षता और स्वतंत्रता‘ का ठेका अपने आप ही मिल जाता है

रविश बिहार से आये हैचूँकी वे बिहारसे आये हैउन्होंने देश की भयंकर गरिबी को देखा हैं और वे एनडीटीव्ही‘ जैसी संस्था के एक हिस्से का नेतृत्व कर रहे हैजिससे उनके पास वह सारे संसाधन आ गए हैंजिनका इस्तेमाल करके अपने नाटकीय अंदाज में वे गरीबी पेश कर सकते है! 

ज्यादातर लोग गरिबी पर भाषण देना और अपने आपको गरिबों के दु:ख का साझीदार बनने का नाटक करना और उसे नाटकीय अंदाज में पेश करने कोसोशालिस्ट इंटलेक्च्युअल‘ मानना शुरू करते हैंचाहे वो सोशालिस्ट हो या ना हो! इंटलेक्च्युअल हो या ना हो! 

आज देश का कोई चॅनल या मीडिया हाउसपब्लिक रिलेशन कंपनी बने बिना या इंटरनॅशनल फंडिंग और व्यवस्था का फायदा उठाए बिना चल नही सकतारविश जो बात करते हैवो सीधी तरह एक Propaganda (प्रचार )है.

उनके पास एक बडा चॅनल हैएक कुर्सी है और एक चतुरता हैइस चतुरता से वे अपने आप को बाकी लोगों से अलग रखने की कोशिश करते हैं या बाकी लोगों से अलग छबी बनाने में कामयाब भी होते हैंवो हर गलत और कुतर्क के साथ वे एक लाइन जोड देते है की, ‘इसका मैं भी एक हिस्सा हूँ‘ या फिर यह भी कहते है की, ” हो सकता है कीमैं भी गलत हो सकता हूँ.”

वास्तविकता मेंदेश में दिल्ली और मुंबई से चलनेवाले चॅनल्स और पत्रिकाओं मे संपादक वही बातें लिखते हैजो रविश कहते है. जो बाते बहुत सीमित होती हैं और अपने मालिक के प्रचारतंत्र से पुरी तरह से प्रभावित होती हैं

आज देश का पुरा मीडियामीडिया हाउस चलानेवाले जो मालिक हैं उनके तंत्र से चलते हैं और संपादक वही बात करता हैं जो मालिक या इनव्हेस्टर्स चाहते हैं.
रविश कुमार का छद्म यह हैं कीवे कुछ भी अलग नही करतेबस वे विश्लेषण की जगह नाटक करते हैनिष्पक्षता की जगह मैं भी गलत हो सकता हूँयह लाइन बार बार थोप देते हैं.
लेकिनउनके जैसे अन्य संपादकों की तरह ही वही सारे निष्कर्ष हमारे सामने रखते हैंजो पहले से ही तय हैंकिसी और काAgenda है, और propaganda है

असल में एक हायपोथिसिस‘ से लेकर कन्क्लूजन‘ तक का सफर उनके किसी भी प्रोग्राम में नही होता हैंअपने जिन साथियों का वे कडा विरोध करते हैउनसे वे बिल्कूल अलग नही हैं.

मुंबई के स्टुडिओ से रोज नाटकीय प्रोग्राम करनेवाले अर्नब गोस्वामी जिन्होंने हाल ही में इस्तिफा दिया है, उनके खिलाफ मानो रविश कुमारने जंगही छेड दी थी. 

असल में देखा जाए तो रविश कुमार अर्नब गोस्वामी के अन्तरंग मित्र (अल्टर इगो ) है. दोनों का Psycho-dynamics एक जैसा ही है. 
दोनो अपने प्रोग्राम थिएटर करते है, ना की उसमें लोगों के प्रति आदर और वास्तविक रुपसे निष्पक्ष चर्चा होती है. जहाँ अर्नब 'You' कहते है, वहाँ रविश कुमार 'I' कहते है. 

अर्नबने अपने थिएटर के लिए आक्रमकता को एक बहुत बडा मंचीय साधन बना दिया था, जिसमें वे सामनेवालो को कोसते थे, परपीडन होता हैं, जिससे लोग बडा ही लुत्फ उठाते हैं. परपीड़न में जो Catharsis है, वही Catharsis आत्मपीड़न में भी है. 

रविश कुमारने यह जान लिया हैं की, उनके हिंदी दर्शक उन्हे तभी नायक बनायेंगे जब वे आत्मपीड़न की तरफ बढेंगे. एक 'मिनी गांधीजी' का किरदार बखुबी निभाएंगे और आत्मपीड़न का एक मॉडेल एक घंटे या जादा व्यक्त के लिए नाटकीय अंदाज में पेश करेंगे जिसको मध्यम वर्ग और गरीब हिंदी भाषी अपना मानेंगे और जिसका नायकत्व अपनेआप रविश को बहाल होगा!
अपनी छबी, रविश कुमार हो या अर्नब गोस्वामी हो, या अन्य ऐसा कोई संपादक जो टीव्ही पर नायक बना बैठा हैं उसे बहुत पसंद होती है. अर्नब और रविश कुमार "अन्तरंग मित्र" है .क्योंकी 'पीडन' ही उनका सबसे बडा हथियार हैं! 
हम दर्शकों को पीड़न बहुत ही अच्छा लगता है, चाहे वह परपीड़न हो या आत्मपीड़न. क्योंकी हमें यह मालूम हैं की, इस देश में अनंत ऐसी समस्याएँ है, जो अपने जीवन से जुडी हैं जिसका कोई समाधान नही है. 
अगर वास्तविक रुप में इसका समाधान ढूँढना हैं, तो इसे लेनिन, मानवेंद्रनाथ रॉय, राममनोहर लोहिया या जयप्रकाश नारायण (और ऐसे अन्य कई दार्शनिक जो देश में और विश्व में पैदा हुए) इन जैसे एक विचारक बनकर एक दार्शनिक रचना करनी होगी, जिसके आधार पर संपूर्ण क्रांती की सफल या विफल कोशिश की जा सकती है. चॅनल से तनखा लेकर ऐसी क्रांती नही की जा सकती! ना ही ऐसी कोशिश भी की जा सकती है!
 रविश कुमार यह बहुत अच्छी तरह से जानते है. वास्तविकता में सारे चॅनल्स के अँकर बने बैठे संपादक ये बात अच्छी तरह से जानते है. उन्हें एक "डेली सोप" की तरह लोगों के मन के जख्मों को इस तरह से कुरेदना हैं की, जख्म ठीक तो नही हो सकती लेकिन जख्म के इर्दगिर्द फैली हुई खुजली बढती रहे और उसे खुजाने का समाधान भी मिले! रवीश कुमार इस खुजली समाधान के मास्टर हैं! बस्स! 
किसी और को पीडा देकर अंग्रेजी जाननेवाले, पॉलिसी-मेकर दर्शकों के लिए अर्नब जो करते है, वही रविश कुमार हिंदी जाननेवाले करोडो दर्शकों के लिए 'मैं' को शामिल करके करते है. दोनों कें खुजाने की स्टाइल अलग हैं, दोनों के दर्शक भी अलग हैं, लेकिन दो चीजें समान हैं - . दोनो डेली सोप चलाते हैं और २. दोनो अपने आप टीव्ही के नायक बनाने में कामयाब हो जाते है. 
दोनो भले कहानी अलग चुनते हो, करते तो बस एक नाटक है, जिसमें एक आभासी दुनिया होती हैं, जिसका 'प्लॉट' कभी 'देशभक्ती' होता हैं, कभी 'देशभक्ती से बडी वैश्विकता' होता है, कभी 'स्वतंत्रता' होता है, तो कभी 'निष्पक्षता' होता हैं. इसमें से कोई चीज वास्तविक नही होती, सारी चीजें आभासी होती है. 
दर्शक यह बात अच्छी तरह से जानते हैं, लेकिन अपनी रोजमर्रा की दर्दभरी जिंदगी से इस 'वास्तविक आभासी' दुनिया का मनोरंजन उन्हे अच्छा लगता है, उनके जख्म के इर्दगिर्द खुजाने जैसा... 

मैंने इस लेख में इन दोनों का जिक्र किया इसका मतलब यह नही की, यह इन्ही दोनों के बारे में है. यह लेख रविश कुमार के बारे में हैं, लेकिन उस पर आने से पहले एक बात मैं कहना चाहूँगा की, रविश कुमार कोई ऐसे पहले नायक नही है. 

प्रणव राय से लेकर राजदीप सरदेसाई, बरखा दत्त और जितने भी आप नाम लो, यहाँ तक की अरुण शौरी जब 'इंडियन एक्सप्रेस' के संपादक हुआ करते थे उनसे लेकर कल प्रधानमंत्री के सामने असभ्य रुप से तंज कसनेवाले राजकमल झा तक सभी यही करते हैं. इनमें से कोई 'पायोनियर पत्रिका' में काम करता है और 'पायोनियर पत्रिका' से तनखा लेता है तो अचानक देशभक्त बन जाता है और जब वह 'टेलिग्राफ' में आता है तब उसे वामपंथ का आविष्कार होने लगता है. जैसे की BHU से आप JNU में गए हो!
मेरे निजी अनुभव में मैने देखा हैं की, मैं जब 'टीम अण्णा' नाम की एक "गँग केजरीवाल" बनी थी जो आज पुरे देश के सामने Expose हो चुकी हैं. जब मैं उनके खिलाफ लड रहा था. केजरीवाल और उसके साथी इस देश के खिलाफ षडयंत्र रच रहें है, यह साबित करने में मैं लगा था तब पूरा देश मुझे गालियाँ दे रहा था. 

rp-511
देश तब ये समझ रहा था की, इन देशभक्तों की टोली को नाकाम करके मैं देशद्रोह का काम कर रहा हूँ. तब यही रविश कुमार, अर्नब, राजदीप, बरखा और अन्य चॅनल्स और पत्रिकाएँ हररोज केजरीवाल का इंटरव्ह्यू लेकर उसे भगतसिंग बनाने में लगे थे. 
रविश कुमार उनमें से ही एक थे. 'आयबीएन 7' के संपादक आशुतोष ने मेरे सच का "लाइव्ह ब्रॉडकास्ट" में अपमान किया था! 

केजरीवाल की किताब चोरी (स्वराज) से लेकर 'अमन होटल डील' में काँग्रेस के साथ हाथ मिलाकर सत्ता का रास्ता अपने लिए खुला कर दिया था! इन सारी बातों का मैने ही सबसे पहले एक्स्पोज करके खुलासा पब्लिक डोमेन में या चॅनल्सपर कर दिया था! (यह सारी बातें आप गूगल सर्च करके देख सकते हैं या www.rajuparulekar.us इस वेबसाइट पर या  rajuparulekar.wordpress.com पर देख सकते हैं), तब ये रविश कुमार जो आज सच के मसीहा बनने में लगे हुए है, उन्होंने केजरीवाल के खिलाफ उफ् तक नही किया. 

दुसरी तरफ रविश कुमार के "अल्टर इगो" अर्नब ने 'Kejriwal Rises' नामक प्रोग्राम लगातार चलाकर केजरीवाल के लिए सत्ता का रास्ता खुला कर दिया था. जब मैंने 'केजरीवाल टीम' के खिलाफ दिल्ली में  नोव्हेंबर २०११ में पहली प्रेस कॉन्फरन्स लेकर उसमें पटियाला हाउस कोर्ट में किरण बेदीजी की संस्थाएँ, केजरीवाल और उनके अन्य साथियों का घपला जिसके उपर पटियाला हाउस कोर्ट ने नोटिस दी थी उसका खुलासा किया और डॉक्युमेंट्स भी बाँटे, वहाँ पर रविश कुमार के 'एनडीटीव्ही इंडिया' के प्रतिनिधी मौजूद थे. 

कोर्ट के एव्हिडन्स देकर भी पहली बार किए गए इस खुलासे के बारे में रविश कुमार एक शब्द भी अपने चॅनल पर बोलते हुए दिखाई न दिए, ना ही उन्होंने अपना पक्ष रखने का मौका मुझे दिया. यहाँ तक भी हम उनकी 'निष्पक्षता' को समझ सकते है!! 

लेकिन वो ही 'टीम केजरीवाल' की सदस्या किरण बेदी जब भाजपा में गयी और दिल्ली की मुख्यमंत्री पद की उम्मीदवार बन गयी, तब रविश कुमार नायक बनके मैदान में कूद पडे और किरण बेदी के साथ साक्षात्कार करके उनके कथित 'झूठ' (?) को तारतार करने का (निष्पक्ष) मौका उन्होंने हासिल कर लिया और देश के सामने खूब चर्चा हो ऐसा ड्रामा पेश किया जिससे वे अपने आप को नायक साबित करने की कोशिश में ही दिखाई दिए. 

बाद में 'ट्विटर' पर जब मैने इस मामले में कई सवाल उनसे किये तो उन्होंने मुझे ब्लॉक कर दिया! मुझे इस बात से कोई रंजीश या गम नही क्योंकी, मैं भी कई लोगों को ब्लॉक कर देता हूँ. फर्क सिर्फ इतना हैं की, ना ही मैं किसी सार्वजनिक पद पर बैठा हूँ, ना ही किसी पद के लिए उत्तरदायी हूँ ! जो की रविश कुमार हैं. ऐसे कम से कम १०० से ज्यादा उदाहरण मैं दे सकता हूँ लेकिन मैं तर्क को उदाहरणों से सिद्ध नही करना चाहता. जो मुझे कहना हैं, वह कुछ और है.
रविश कुमार जिसके संपादक है, उस 'एनडीटीव्ही इंडिया' के उपर सरकार ने देश की सुरक्षितता से संबंध में गोपनीय बातें खुली करने के आरोप में एक दिन 'ऑफ एअर' जाने को कहा. 
हालाकी, यह पहली बार नही हुआ था. मनमोहन सिंग की पिछली सरकार के दस साल में बीस अलग अलग चॅनल्स "ऑफ एअर" किए गए थे, तो यह कोई Unprecedented नही था. 
२००७ में 'जनमत टीव्ही' को ३० दिन के लिए ऑफ एअर कर दिया गया था. 

लेकिन यहाँ पर सवाल 'एनडीटीव्ही इंडिया' का था और दिल्ली के लुटियन सर्कल के अपने आप को वामपंथी समझनेवाले अरबोंपती, जो अपने आप को इंटलेक्च्युअल भी समझते हैं वह सारे और उनके साथ प्रिंट और व्हिज्युअल मीडिया के एडिटर गिल्ड दोनो इकठ्ठे रुप से यह कोई असाधारण आपात्कालीन घटना मोदी सरकार की वजह से हो रही हैं ऐसा बवाल मचाने में लग गई. 

रविश कुमार हिरो बनने के लिए एक मूक थिएट्रिक्स प्रोग्रॅम (जिसका न्यूज चॅनल्स से कोई वास्ता नही होता) करके अपने नाटकीय अंदाज को और अपने झूठ की नीव को चरम पर ले गए और स्वयंघोषित इंटलेक्च्युअल समझनेवाले (जो की हैं नही!) पत्रकारों मे एक ज्वर सा दौडने लगा जो 'व्हायरल' था मगर 'ट्विटर'पर!! 
 पठानकोट हमले के बाद 'एनडीटीव्ही इंडिया' के इस लाइव्ह रिपोर्टिंग के कारण एक दिन की पाबंदी लगाई गयी :
. आतंकी आयुध भंडार से १०० मीटर दूरी पर पहुँच चुके हैं, जहाँ से दक्षिण में मिसाइल्स और रॉकेट्स रखे जाते हैं.
. वायुसेना हेलिकाप्टर उडान भर चुका हैं, किसी भी समय आतंकियों के छिपे हुए स्थान पर गोलियाँ बरसा सकता हैं.
. तीन तरफ से एनएसजी कमांडो आतंकियों को घेर चुकें हैं और दक्षिण की तरफ जंगल हैं, उस तरफ से घेराबंदी नहीं हैं
 'एनडीटीव्ही इंडियाका यह दावा रहा हैं कीसजा हमें मिली लेकिन यह सारी सेना के बारे में गोपनीय बाते अन्य कई चॅनल्सगूगल पर उस दिन दिखाई दे रही थी. क्या अन्य जगह गुनाह होते रहते है इस तर्क से हमारा गुनाह माफ किया जाएयह कहना जायज और जिम्मेदाराना हरकत हैं?
 rajkamal_jha
यह सब बवाल दिल्ली में हो रहा था, तब Ramnath Goenka Award for Excellence in Journalism' का कार्यक्रम हो रहा था. उसके प्रमुख अतिथी थे, देश के माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी. 

प्रधानमंत्री पुरे देश का होता हैं और माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पुरे देश ने पूर्ण बहुमत से चुना हैं. संवैधानिक रुप से देश की जनता सर्वोपरी हैं और देश की जनता पूर्ण बहुमत से देश का नेता चुनती हैं तब वह अपने आप सर्वोपरी हो जाता हैं. 

विचारधाराएँ भिन्न हो सकती हैं, लेकिन संवैधानिक रुप से इस बात को असहनीय मानना, अस्वीकार करना अपने आप में अलोकतांत्रिक हैं. 

उस कार्यक्रम में एक-दो पत्रकारों ने प्रधानमंत्री के हाथों से पुरस्कार लेने से मना कर दिया, कार्यक्रम पर बहिष्कार कर दिया. 

बात यहाँ तक सीमित नही हैं. प्रधानमंत्री के भाषण के बाद Vote of Thanks देने आये हुए 'इंडियन एक्सप्रेस' के संपादक राजकमल झा प्रधानमंत्री पर अपने भाषण में तंज कसते रहे, जो बेअदब और बदतमीज था. 
क्योंकी, 
. माननीय प्रधानमंत्री राजकमल झा के गणमान्य अतिथी थे. 
. अगर निष्पक्षता की बात की जाए तो 'The other side is also important!' जो बात, Vote of Thanks के बाद अपनी बात रखने का प्रधानमंत्री को मौकाही नही था! एक तरह से उन्होंने अपने गणमान्य माननीय प्रधानमंत्री का खुले तौर पर अपमान किया, जिसे असहिष्णुता से कम कुछ भी नही कहाँ जा सकता. लेकिन जादा कुछ कहाँ जा सकता हैं!
बात बात में राजकमल झा ने एक और बात की, जो सफेद झूठ था. राजकमल झा ने कहाँ, सरकार अगर पत्रकार का विरोध करती हैं तो, यह बात पत्रकार को पुरस्कार की तरह माननी चाहिए. इस बात में साफ गडबड हैं...
. अगर ऐसी ही बात थी और राजकमल झा का conviction इसी बात पे ठोस था तो सरकार के सर्वोच्च प्रतिनिधी माननीय प्रधानमंत्री को उस कार्यक्रम के प्रमुख अतिथी के रुप में उन्हें क्यों बुलाया गया? यह तो 'इंडियन एक्सप्रेस' का सेल्फी लेने से जादा बडा दिखावा था.
. प्रधानमंत्री के साथ सेल्फी लेनेवालों के बारे में राजकमल झा को आपत्ती थी लेकिन दुसरे दिन समाचारपत्रों मे, सोशल मीडिया में और न्यूज चॅनल्स में प्रधानमंत्री के साथ राजकमल झा की तस्वीरे छपी थी वह अपने आप से प्रतारणा नही थी? 
. इस देश के राजकमल झा से कई गुना बडे, महान और जिनके नाम पर कई किताबें हैं ऐसे लेखक, पत्रकार, विचारक पद्मश्री, पद्मभूषण, पद्मविभूषण, भारतरत्न, ललितकला अकादमी और कई सारे पुरस्कार और फेलोशिप्स सरकार से लेते रहे हैं (चाहे सरकार बदलती रहें) क्या वे सारे लोग फ्रॉड थे? क्या उन्होंने अपना जमीर खोया था?
. अगर रिट्वीट करना इतना अनुचित है तो क्या 'इंडियन एक्स्प्रेस' अपने 'ट्विटर अकाउंट'पर Please Don't Retweet Our Tweets ऐसा लिख सकते हैं? उन्हें फौरन यह लिखना चाहिए!!
 या फिर राजकमल झा 'कथनी एक और करनी एक' को अपनी विचारधारा मानते हैं? ५० साल के राजकमल झा को यह कहना जरुरी हैं की, इसे 'अवसरवाद' (Opportunism) कहते हैं!
और आखिरी बात
. प्रधानमंत्री को कोई बात सुनानी थी, तो आपके हाथ में समाचार पत्र था, जिसका नाम 'इंडियन एक्सप्रेस' हैं! कलम थी! क्या आपका उन दोनों पर से विश्वास उठ गया था? या फिर अपने मेहमान का प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रुप से अपमान करना 'इंडियन एक्स्प्रेस' या राजकमल झा का मेहमाननवाजी और अवसरवाद का नया रुप हैं?
. क्या उस शाम राजकमल झा के शरीर में रविश कुमार की आत्मा घुस गई थी, जो एक रविश कुमार स्कूल की थिएट्रिक्स कर रहे थे. जिससे उन्हें एक नायक बनना था, जिसकी आस उन्होंने ५० साल दबा रखी थी, जिसका मौका उन्हें उस शाम मिल गया?
रविश कुमार 'एनडीटीव्ही इंडिया' की कुर्सी से उतरने के बाद कुछ भी नही रहेंगे! 
वे अपनी थिएट्रिक्स रामलीला मैदान में करने शुरू करे तो उन्हें देखने दस लोग भी नही आएंगे! उन्होंने हिंदी में जो दो-तीन किताबे लिखी हैं उसके कोई पाठक हैं भी या नही? क्या किसी ने उनकी यह किताबे पढी हैं? जो असल में पढने लायक भी नही हैं. बात रविश कुमार से शुरू नही हुई. 

बचपन में हमने 'इंडियन एक्स्प्रेस' के अरुण शौरी की थिएट्रिक्स भी देखी हैं, ड्रामेबाजी भी देखी हैं. कमसे कम वे थोडे इंटलेक्च्युअल तो हैं. बाकी लोग जैसे की, एडिटर्स गिल्ड के सारे सदस्य, रविश कुमार, राजदीप, बरखा दत्त और दिल्ली लुटियन सर्कल के लोग जो अपने आप को वामपंथी मानते हैं (पर हैं पुंजीपती!). जो अपने आप को इंटलेक्च्युअल मानते है (पर हैं अय्याश, दिमागी दिवालीयाँ). इसलिए उनके जीने का सहारा और उद्देशही खत्म हो गया हैं क्योंकी, वास्तव में वे वामपंथी भी नही है और इंटलेक्च्युअल भी नही हैं. 

इसलिए उन्होंने एक तरकीब ढूँढ निकाली हैं की, जो इस देश, देश की सेना और सबसे महत्त्वपूर्ण बहुमत से चुना हुआ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का विरोध! जो उनके जीवन को सहारा और उद्देश दे देता हैं. 'इन तीन चीजों का विरोध करो और आप वामपंथी और इंटलेक्च्युअल होने का सर्टिफिकेट ले लो' यह एक षडयंत्र केजरीवाल टीमने शुरू किया और उसका व्हायरस दिल्ली लुटियन सर्कलने केरल से जम्मू-कश्मीर तक और प. बंगाल से मुंबई तक फैला दिया हैं. 
अगर आप सचमुच लोकतंत्र, निष्पक्षता, सहिष्णुता को माननेवाले व्यक्ती हो, तो आपको रविश कुमार, राजकमल झा और केजरीवाल जैसे प्रवृत्ती को विरोध और नेस्तनाबूत करने की शक्ती, धैर्य, हिम्मत और सहनशीलता दिखानी पडेगी! 

यह वक्त का तकाजा हैं! क्योंकी, हमे संवैधानिक रुप से देश की जनता को सर्वतोपरी मानना हैं ना की, रविश कुमार, राजदीप, बरखा, राजकमल झा, शेखर गुप्ता जैसे ड्रामेबाजों को! 

यह सारे या तो नौकरी करते हैं या पुंजीपती है. इनमें से कोई भी क्रांतिकारी नही हैं. ना ही क्रांतिकारी होने की उनमें कोई संभावना बची हैं! यह सारे लुटपाटवादी और अवसरवादी हैं. इसलिए हमें समझना चाहिए की, इनकी बातों से इस देश में कोई क्रांती या संपूर्ण क्रांती नही हो सकती. इनकी महिने की Salary या Profit Ratio आबाद रहे! 
narendra-modi-1
लेकिन, हम उन्हें देश, देश की निष्पक्षता, सहिष्णुता, लोगों का चुनने का अधिकार और लोकतंत्र इन्हे उनकी ड्रामेबाजी से बर्बाद नही होने देना हैं!
बाकी रविश कुमार (और अन्य) का ड्रामा चलता रहे!!

राजू परुळेकर
raju.parulekar@gmail.com
rajuparulekar@wordpress.com
www.rajuparulekar.us

 

 

 
 
 
Posted in Uncategorized | 8 Comments